HELLO BRAINBOOK ARMY, स्वागत है आप सभी का Brain Book चैनल में, जहाँ पर आप देख सकते हैं complete book summaries |  दोस्तों ये, YOU CAN HEAL YOUR LIFE किताब का दूसरा PART है | अगर आपने इसका पहला Part नहीं देखा तो आप Description में दिए गए link पर जाकर या आई बटन पर click कर के इसका पहला Part देख सकते हैं |   इस Part में,  मैं आपको CHAPTER 6 से लेकर CHAPTER 14 के बारे में बताऊंगा | जिसमे  लेखिका LOUIS HAY ने ये बताया है कि किस तरह आप अपनी NEGATIVE सोच को POSITIVE  सोच में बदल सकते हैं ? कैसे आप ज्यादा पैसे कमा सकते हैं? किस तरह आप अपने  संबंधों को बेहतर कर सकते हैं?
इस video के अंत में, मैं बताये गए Chapters के  सभी  महत्वपूर्ण बातों को  संक्षिप्त में दोबारा दोहरा दूँगा, ताकि इस video में बताई गई बातें आपको आसानी से याद रहे |  तो इस वीडियो को अंत देखना मत भूलियेगा |

तो चलिए शुरुआत करते हैं CHAPTER  – 6  के साथ |

Chapter 6 है  Resistance to change – परिवर्तन का विरोध

Awareness is the first step in healing or changing  – जागरूकता, उपचार या परिवर्तन का पहला कदम है 

खुद को बदलने के लिए सबसे पहला कदम है Awareness या जागरूकता | अपने जीवन की किसी भी  परिस्थिति को ठीक करने से पहले हमें उसके बारे में  जागरूक होना होगा | अक्सर हम अपनी खराब परिस्थिति का जिक्र, उसके बारे में दूसरों से  शिकायत करने के लिए करते हैं | हम अपनी खराब  परिस्थिति का कारण ढूंढने  और उसे ठीक करने के लिए किसी शिक्षक, दोस्त, किताब का सहारा लेते हैं | उसके बाद हमें जरूरत होती है अपनी परिस्थितियों और परिणामों की ज़िम्मेदारी लेने की |  ज़िम्मेदारी लेने से हम इस बात के लिए जागरूक होते हैं कि हमारे अंदर वह  शक्ति है जिससे हम अपनी  परिस्थितियों और परिणामों को बदल सकते हैं |  हमें उसी शक्ति का इस्तेमाल अपनी मनचाही परिस्थितियों और परिणामों को बनाने के लिए करना है |  शुरू में आपको अपने विचारों को बदलना बहुत मुश्किल लगेगा  लेकिन हर रोज़  अभ्यास करने से आप अपने विचारों को ही नहीं बल्कि  अपने पूरे जीवन को बदलने में कामयाब होंगे |

Repeated Patterns show us our Needs – बार – बार दोहराया गया पैटर्न हमें हमारी जरुरत दर्शाता है

हमारी जो भी आदत हैं उनके पीछे हमारी कोई ना कोई जरूरत होती है  | हम कई बार अपने आप से कहते हैं कि मैं अपनी सभी बुरी  आदतें छोड़ दूँगा जैसे कि ज्यादा मिठाई खाना, ज्यादा क्रोधित होना या शराब पीना  लेकिन जब भी  वह चीज़ हमारे सामने आती है तो हम अपनी आदत से मजबूर हो जाते हैं और फिर से वही काम करने लगते हैं | फिर हम अपने आप से कहते हैं कि मेरे अंदर इच्छा शक्ति की कमी है, मैं एक कमजोर इंसान हूं | हम खुद को दोष देते हैं और अपने  मन के उस  बोझ को बढ़ाते हैं जिसे हम पहले से लेकर चल रहे हैं |

Willingness to release the need – जरुरत को छोड़ने की इच्छा

आपकी वर्तमान  परिस्थितियों और  परिणामों  का कारण आपकी कोई ना कोई जरूरत है |  उदाहरण के तौर पर जब आप मिठाई खाने की जरूरत को छोड़ देंगे तो मीठा भी छोड़ देंगे  |  जब आपके शरीर को शराब की जरूरत महसूस नहीं होगी तो आप शराब नहीं पियेंगे | जब आपको गुस्सा करने की जरूरत महसूस नहीं होगी तो आप दूसरों की ग़लतियों पर गुस्सा नहीं होंगे बल्कि विनम्रता से उन्हें समझाएंगे |

मैं शराब पीने की आदत या अपने बढ़े हुए  वजन की जरूरत को छोड़ना चाहता हूं | इस Affirmation का इस्तेमाल करते हुए आपके अंदर विरोध पैदा नहीं होना चाहिए |  जब आप हर रोज़ इस तरह के Affirmation का अभ्यास करेंगे तो वह काम करने लगेगा और आप की बुरी आदत छूट जाएगी |

आप जल्दबाजी में अपनी किसी  आदतको नहीं छोड़ सकते अगर आपको किसी शिक्षक से मदद चाहिए तो मदद ज़रूर लें |  सबसे बड़ी बात  है किसी बुरी  आदत को छोड़ने के लिए खुद को प्रेम से भरे  और नफरत या गुस्से  जैसी कोई भी negative  भावना अपने मन में ना रखें  |

Self Criticism – खुद की आलोचना

दोस्तों हम में से बहुत से लोग खुद को दोष देते हैं या खुद  की आलोचना करते हैं |  उदाहरण  के तौर पर एक महिला जो कि मक्खन और ऐसी बहुत सारी वजन बढ़ाने वाली चीजें खाती थी |  अगले दिन वह शीशे के सामने खड़ी होकर अपने बढ़े हुए वजन के लिए वह खुद को दोष देती थी | जब वह छोटी थी तो वह बहुत सारा मक्खन  खाती थी  और उसके परिवार के सदस्य इस बात की सराहना करते थे और उसे ऐसा करते देख कर खुश होते थे | उसके मन में यही विचार बैठा था कि ऐसा करना उसके लिए ठीक है क्योंकि उसके परिवार वाले उसकी इस हरकत से खुश होते थे |  हमारे सभी अच्छे और बुरे विचार बचपन से ही बन जाते हैं चाहे उनका कारण कुछ भी हो | आप के  बचपन से बने हुए विचार आपको जीवन भर परिणाम  देते हैं  लेकिन अच्छी बात यह है कि आप  उन्हें बदल सकते हैं |  जब आप हर रोज़  अभ्यास करके अपने विचारों को बदल देंगे तो आपको अपने जीवन में मिलने वाले  परिणामों को भी बदल जाएंगे |

Chapter 7 है How to Change – कैसे बदलें ?

दोस्तों दुनिया की बड़ी से बड़ी शिक्षा बेकार है जब तक आप उस शिक्षा को अमल में नहीं लाते | इस समय इन तीन बातों को अमल में लाना सबसे जरूरी है |

  1. Negative घटनाओं और परिणामों  के बारे में सोचना बंद करना |
  2. अपने  दिमाग को  नियंत्रित करना |
  3. खुद को और दूसरे लोगों को माफ़ करना |

कभी-कभी आप किसी बुरी आदत को छोड़ने की कोशिश करते हैं लेकिन  ऐसा करने से हालात सुधरने की जगह  और भी बिगड़ जाते हैं | जब आप रिश्तों को सुधारने की कोशिश करते हैं तो आपका झगड़ा हो जाता है | जब आप अपनी सेहत को सुधारने की कोशिश करते हैं तो आप बीमार हो जाते हैं |

ये  कोई  चिंता की बात नहीं है,  इसका मतलब है कि परिस्थितियां  बदल रही हैं और हमें आगे बढ़ने की जरूरत है |  उदाहरण के तौर पर जब आप सिगरेट छोड़ने की कोशिश कर रहे हो तो इसका असर आपके रिश्ते पर भी पड़ता है |

Releasing the need – जरुरत को छोड़ना

अगर आप अपने किसी बुरी आदत को छोड़ना चाहते हैं तो आपको उस आदत की जरूरत को छोड़ना होगा | बहुत से लोग ऐसा करने से डरते हैं क्योंकि वह नहीं जानते अपनी जरूरत को कैसे छोड़ना है  | अच्छी बात यह है कि हमें यह जानने की जरूरत नहीं की हमें अपनी किसी बुरी आदत को किस तरह से छोड़ना है | हमें केवल उसे छोड़ने का  निर्णय लेना है और आपका मन अपने आप उस आदत को छोड़ने का रास्ता ढूँढ लेगा |  आपको केवल  ब्रह्मांड के सामने बदलने की इच्छा करनी है  और उस पर अटल रहना है  | इस समय आप जो भी सोच रहे हैं और जो भी बोल रहे हैं, आपके यही विचार और शब्द आपका  भविष्य बना रहे हैं |  आप इस समय जो सोच रहे हैं केवल उन्हीं पर आपका नियंत्रण है इसलिए आप उन्हें बदल सकते हैं और अपने मन चाहे  परिणाम पा सकते हैं |

Letting the Past hold you Back – अतीत को पकड़ कर रखना

बहुत से लोग सोचते हैं कि वह अपने  वर्तमान समय का आनंद नहीं ले सकते क्योंकि उन्होंने अपने  बीते समय में सही दिशा में और सही तरीके से काम नहीं किए, जिसके कारण वह अपने  वर्तमान समय का आनंद नहीं ले पाते | अपने बीते समय की बुरी घटनाओं और बुरे परिणामों को महसूस करने से हम अपने  वर्तमान को भी  खराब करते हैं और दुनिया  में यह संदेश देते  हैं कि  भविष्य में भी हालात बेहतर नहीं होंगे  | इसलिए हमारे लिए बेहतर यही है कि हम  बीते हुए समय की बातों को भूल जाए,  उन  परिणामों और  परिस्थितियों को अपने मन से पूरी तरह निकाल दें और अपने  वर्तमान का आनंद लें  |

Forgiveness – माफ़ करना

खुद को और दूसरों को माफ़ करने से हमें अपने पुराने विचारों से छुटकारा मिलता है |  पुराने विचारों को मन से निकालने पर हमें उनसे मिलने वाले negative  परिणामों से भी छुटकारा मिल जाता है  |  हमारे साथ पहले जो भी बुरा हुआ है या किसी ने हमारे साथ बुरा किया है तो हम उन घटनाओं का बोझ अपने मन में लेकर जीते हैं | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम उन लोगों को माफ़ नहीं करते  |  हमें खुद को और दूसरों को माफ़ करना चाहिए, ऐसा करने से हम अपने अतीत  की घटनाओं और  परिणामों  से खुद को अलग कर पाएंगे और  वर्तमान में जी सकेंगे |  वर्तमान का खुलकर आनंद लेने से हम एक बेहतर  भविष्य बनाने में कामयाब होंगे |

Chapter 8 है Building the new – नए का निर्माण

What you put your attention on grows – आप जिन चीजों पर ध्यान देते हैं वह बढ़ती है 

हम सब लोग  अक्सर उन्हीं परिणामों और परिस्थितियों के बारे में सोचते हैं जो हम अपने जीवन में नहीं चाहते |  उदाहरण के तौर पर हम दूसरों से कहते हैं कि मुझे  अकेला नहीं रहना, कर्ज नहीं लेना चाहता,  दुखी नहीं रहना चाहता,  शराब नहीं पीना चाहता, मोटा नहीं होना चाहता | जब हम इस तरह के विचार सोचते हैं तो उन्हीं चीजों पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो हम अपने जीवन में नहीं चाहते | इसलिए जिन  परिस्थितियों  और  परिणामों को हम अपने जीवन में नहीं चाहते वह हमेशा हमारे जीवन में बनी रहती हैं   |  आपको अपने बारे में इस तरह से सोचना होगा कि मैं सबके साथ अच्छे  संबंध बनाना चाहता हुँ,  मैं अपने जीवन में पैसा चाहता हुँ,  मैं अपने जीवन में खुशी और  आनंद चाहता हुँ,   मैं हमेशा  स्वस्थ रहना चाहता हूं |

The Process of Loving the Self – खुद को प्रेम करने की प्रक्रिया

आपके जीवन में कितनी भी बड़ी  समस्या क्यों ना हो आप उन सभी समस्याओं को प्रेम से  हल कर सकते हैं | इसलिए आपको खुद को प्रेम से भरना होगा और खुद से प्रेम करना होगा | खुद से प्रेम करने के लिए पहले आपको खुद को और अपनी मौजूदा  परिस्थितियों को  स्वीकार करना होगा |  जब तक आप खुद को  स्वीकार नहीं करेंगे तब तक आप खुद से प्रेम नहीं कर सकते  | आपको वही काम करना होगा जिससे आपको खुशी मिलती है | आपको उन लोगों के साथ रिश्ते बनाने हैं जिनसे आपको खुशी मिलती है |

Create New Changes – नए बदलाव लायें

आपको उन चीजों की एक लिस्ट बनानी है जो आपको पसंद नहीं है | उसके बाद आपको यह देखना है कि आप अपने जीवन में उन सभी परिस्थितियों और परिणामों को कैसे बदले, जो आपको पसंद नहीं है और पहली लिस्ट के विपरीत एक नई लिस्ट बनानी है |   उदाहरण के तौर पर अगर आपने पहली लिस्ट में लिखा है कि आपका समय बहुत खराब चल रहा है तो आप नई लिस्ट में लिखेंगे कि आपका समय अच्छा चल रहा है | चलिए हम खराब परिस्थितियों को नए तरीके से लिखने के कुछ उदाहरण देखते हैं |

पुराना विचार –  मेरा  वजन  बहुत ज्यादा है

नया विचार –  मेरा  वजन सही है और मैं बिल्कुल स्वस्थ हुँ

पुराना विचार – मेरे रिश्ते बहुत खराब हैं

नया विचार  –  मेरे रिश्ते मधुर हैं

पुराना विचार – मेरे पास धन की कमी है

नया विचार –  मेरे पास बहुत धन है

इस तरह से आप अपने किसी भी  पुरानी  परिस्थितियों के साथ जुड़े हुए विचार को नए विचार में बदल सकते हैं |  नए विचार सोचने से आपको नए परिणाम मिलेंगे | आपका शरीर स्वस्थ हो जाएगा,  आप एक  संतुलित  वजन पाएंगे,  सभी के साथ आपके रिश्ते मधुर हो जाएंगे, आपका काम बिल्कुल सही चलेगा और आपके जीवन में प्रचुरता आएगी |

Chapter 9 है Daily Work – रोज का अभ्यास 

हमें जीवन में किसी भी नए काम को सीखने में समय लगता है | जैसे कि अब आप जान गए हैं कि अपने जीवन के परिणामों को बदलने के लिए आपको अपने  विचारों को बदलना है | नए विचारों को अपनाने के लिए समय इसलिए लगता है क्योंकि आपका confuse  दिमाग नए विचारों को जल्दी  स्वीकार नहीं करता | चलिए बात करते हैं कुछ ऐसी  क्रियाओं के बारे में जिन्हें daily  करने से आपको नए विचारों को अपनाने में मदद मिलेगी |

  1. कृतज्ञता का अभ्यास करना
  2. अपने नए विचारों की list बनाना
  3. अपने नए विचारों पर ध्यान लगाना
  4.  स्वस्थ रहने के लिए कसरत करना
  5.  स्वस्थ रहने के लिए अच्छा भोजन करना
  6. नए विचारों की Affirmations  को बोलना
  7.  Affirmations को गाना
  8. अपने दिमाग और शरीर को आराम देना
  9. मानसिक तस्वीरें देखने की प्रक्रिया  को करना
  10. नई – नई किताबें पढ़ना

जब आप इन सभी चीजों को अमल में लाएंगे और इनका अभ्यास करेंगे, तो आपको अपने नए विचारों को अपनाने में आसानी होगी |  आपका मन आपके नए विचारों का विरोध नहीं करेगा और उन्हें जल्दी ही  स्वीकार कर लेगा |

Meditation – ध्यान

Meditation  का मतलब है ध्यान लगाना और हमें ध्यान लगाने  की प्रक्रिया को रोज़ करना चाहिए | आपके लिए ध्यान लगाना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि  ब्रह्मांड की  ऊर्जा वही  बहती है जहां ध्यान जाता है | ध्यान लगाने  की प्रक्रिया में आप एक शांत जगह पर बैठ जाते हैं और अपनी आँखें बंद करके अपने मन पर ध्यान लगाते हैं |  ध्यान लगाने की प्रक्रिया के दौरान आपके मन में अपने आप कोई ना कोई विचार आ जाएंगे |  आपको उन विचारों का विरोध नहीं करना,  क्योंकि  विचार आपके मन में स्वाभाविक रूप से आते हैं और चले जाते हैं |  अगर आप उनका विरोध करेंगे तो उन्हें ऊर्जा मिलेगी और वहीं चीजें आपके  जीवन में  आकर्षित होंगी |

वैसे तो ध्यान लगाने के बहुत से फायदे हैं लेकिन यहां हम दो चीजों के बारे में बात करेंगे | पहली बात कि आप अपने मन को शांत करके उन चीजों पर ध्यान लगा सकते हैं जिन्हें आप अपने जीवन में लाना चाहते हैं |   दूसरी बात यह है कि ध्यान लगाते समय आप अपने Subconcious Mind से कोई भी सवाल पूछ सकते हैं  जिसका जवाब आप ढूंढ रहे हैं | ऐसा जरूरी नहीं कि आपको उसी समय उस सवाल का जवाब मिल जाए लेकिन थोड़ा सा इंतजार करने के बाद आपको इस सवाल का जवाब ज़रुर मिलेगा |

Chapter 10 है Relationships – रिश्ते

हमारा सारा जीवन रिश्तों से भरा हुआ होता है | जीवन में हर चीज के साथ हमारा रिश्ता होता है | आपका सभी चीजों के साथ, खाने के साथ, मौसम तथा कुदरत के साथ और अपने आस-पास के लोगों के साथ  एक रिश्ता होता है | आपका खुद के साथ भी एक रिश्ता होता है जो कि दूसरे लोगों के साथ आपके रिश्ते से प्रभावित होता है | रिश्ते हमारे लिए एक शीशे की तरह होते हैं | आप लोगों को तब तक अपनी जीवन में  आकर्षित नहीं कर सकते जब तक आप में और उनमें कुछ मिलता जुलता ना हो |

आप उन लोगों के बारे में सोचिए जो आपको बहुत परेशान करते हैं या  जो ऐसे काम  करते हैं जो आपको पसंद नहीं है |  आपके अंदर जरूर ऐसे  विचार होंगे, जिनके कारण वे आपके जीवन में हैं और जिनके कारण आपको परेशान करने वाले लोग आपकी ओर  आकर्षित होते हैं |  आप खुद को समय दीजिए और ऐसे ही विचारों का पता लगाइए  | जब आपको अपने वह विचार पता लग जाए जिनके कारण परेशान करने वाले लोग आपके जीवन में हैं तो आप उन विचारों को अपने मन से पूरी तरह निकाल दीजिए |

अगर आपका Boss आप के काम से कभी खुश नहीं होता तो इसका कारण भी आपके विचार हैं | हो सकता है आप इस तरह से सोचते हो  कि आप कितना भी काम कर लें पर Boss कभी खुश नहीं हो सकते |  आपको अपने इस विचार को बदलना होगा और इस तरह से सोचना होगा कि आपका बॉस आपके काम से बहुत खुश है | आपके ऐसा करने से आपका Boss आपके काम से खुश भी होगा और उसके साथ आपके रिश्ते भी सुधर जाएँगे |

अगर आप कोई Business  करते  है और आपका कोई  कर्मचारी अपना काम ठीक से नहीं करता तो इस मामले में भी आपके विचार उसे ऐसा करने को मजबूर कर रहे हैं | आपका काम यह पता लगाना है कि आपके कौन से  विचारों के कारण आपका कर्मचारी ठीक से काम नहीं कर रहा है | आपके लिए ऐसे कर्मचारी को काम से निकालना बहुत आसान है लेकिन उससे आपके वह  विचार नहीं बदलेंगे और आपके नए  कर्मचारी भी ठीक से काम नहीं करेंगे | इसलिए बेहतर यही है कि आप अपने  कर्मचारियों के प्रति negative  विचारों को बदल दें या उन्हें अपने मन से पूरी तरह निकाल दें और जब आप ऐसा करेंगे तो आपका वही  कर्मचारी बिल्कुल वैसा काम करके देगा,  जैसा आप उससे करवाना चाहते हैं |

अपने विचारों को बदलना ही दूसरों को बदलने का सबसे अच्छा तरीका है | दूसरों को दोष देना बेकार है क्योंकि दोष देने से आपके विचारों की शक्ति कम हो जाती है |

आपको जीवन में प्रेम तभी मिलता है जब आपको उसकी बिल्कुल भी उम्मीद नहीं होती | प्रेम कभी आपके बाहर नहीं होता वह हमेशा आपके अंदर ही होता है  |

Chapter 11 है Work – काम

ज्यादातर लोग अपने काम के बारे में इस तरह से सोचते हैं |

मैं यह नौकरी नहीं कर सकता |

मुझे अपने बॉस से नफरत है |

मैं ज्यादा पैसे नहीं कमा रहा |

ये negative  विचार है जो बहुत से लोग अपने काम के बारे में सोचते हैं | अगर आपके भी अपने काम के बारे में कुछ ऐसे ही विचार हैं तो आपकी  समस्याओं के लिए मैं आपको एक  समाधान  बताना चाहता हुँ  |

आप इस तरह से सोचना शुरु कीजिए कि ऑफ़िस में सब कुछ अच्छा चल रहा है,  बॉस अच्छा है,  ऑफ़िस में सभी लोग आपके काम को पसंद करते हैं | ऑफ़िस में काम करते हुए अच्छा महसूस कीजिए  और ऑफ़िस में काम करने वाले लोगों के बारे में अपनी सोच positive  रखिए |  अगर आप इस तरह से अपने विचारों को बदल देंगे तो आपकी काम की स्थिति भी बदल जाएगी और आपको अपना काम पसंद आएगा  |

अगर आपके ऑफ़िस में कोई भी व्यक्ति आपको परेशान करता है तो उसे बदलने के लिए आप उसके बारे में Positive विचार करना शुरु कीजिए | जब आप अपना ध्यान उसकी अच्छाइयों पर केंद्रित करेंगे, तो उसका व्यवहार आपके लिए बदल जाएगा  या वह आपसे दूर चला जाएगा |

आप अपनी नौकरी, अपने बिज़नेस और उससे मिलने वाले धन के लिए कृतज्ञता की भावनाएं महसूस करें | अपने काम को पूरी लगन से करें और सभी के लिए positive सोच रखें |

Chapter 12 है Success – सफलता

आपके लिए  असफलता का क्या मतलब है ? क्या इसका मतलब यह है कि आप जिस तरह से किसी काम को करना चाहते थे लेकिन वह उस तरह से नहीं हुआ | अगर आप किसी काम में असफल होते हैं तो इसका मतलब है कि या तो उस काम के बारे में आपके विचार negative  है या फिर आप खुद को उस काम को करने के काबिल नहीं समझते  | अपने इन्हीं विचारों के कारण हम उस काम में  सफल नहीं हो पाते |

सोचिए छोटा सा बच्चा चलना सीखता है  तो वह कई बार  चलते चलते गिरता  है |  जब वह थोड़ा सा चलता है तो माता – पिता और परिवार के सदस्य उसकी तारीफ करते हैं और खुश होते हैं |  ऐसा करने से बच्चे को हिम्मत मिलती है, और वह और कोशिश करता है |  हर रोज़ अभ्यास करने से वह एक दिन पूरी तरह खड़ा होकर ठीक से चलने लगता है |  लेकिन जब आप कोई काम करते हैं तो आप अपनी तारीफ नहीं करते और खुद को उसे ठीक से करने के काबिल नहीं समझते इसीलिए आप बार-बार उस काम में असफल होते हैं |  आपको उस बच्चे की तरह खुद की तारीफ करनी है और किसी भी काम के लिए अपनी सोच को positive रखना है |  आप किसी भी काम को कर सकते हैं और आप में दुनिया के हर काम को करने की काबिलियत है |

किसी भी काम में सफल होने के लिए आपको अभ्यास करना पड़ता है | अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखेंगे जो अपने काम में बहुत सफल हैं  तो पाएंगे कि कि उसने  सफलता हासिल करने के लिए कई वर्षों तक  अभ्यास किया है |  उदाहरण के तौर पर किसी भी खेल के खिलाड़ी  उस खेल में महारत हासिल करने के लिए  कई वर्षों का  अभ्यास करते हैं |

Chapter 13 है Prosperity – समृद्धि

अगर आप अपने जीवन में  समृद्धि लाना चाहते हैं तो आपको धन और  समृद्धि के बारे में अपने विचारों को बदलना होगा  |  उदाहरण के तौर पर कुछ लोग सोचते हैं कि पैसे पेड़ पर नहीं लगते या पैसे कमाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है |  मैं आपको पैसे के बारे में कुछ नकारात्मक विचारों के उदाहरण देता हुँ  |

पैसे कभी पेड़ पर नहीं लगते

पैसे कमाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है

पैसा ही जिंदगी में सभी  समस्याओं का कारण है

बिज़नेस करने के लिए पैसों की जरूरत होती है

पैसा केवल बड़े लोगों के पास ही होता है

इस तरह के और भी बहुत सारे negative विचार हैं जो ज्यादातर लोग पैसे के बारे में सोचते हैं |  उनके यही विचार उनके जीवन में पैसा आने से  रोकते हैं  और वह ज्यादा पैसे नहीं कमा पाते | यह सब विचार हमें दूसरों से मिलते हैं |  इन विचारों को ही हम अपना विश्वास बना लेते हैं और उसी के अनुसार हमें जीवन में धन मिलता है |  धन के बिना जीवन में प्रचुरता नहीं आ सकती |  आप  एक प्रचुरता से भरा जीवन जीना चाहते हैं तो आपको धन के बारे में अपने विचार बदलने होंगे |  आप को इस तरह से सोचना होगा कि आप जितना चाहे उतना पैसा कमा सकते हैं |  आप में पैसा कमाने की काबिलियत है  |

जीवन में  समृद्धि लाने के लिए सबसे पहले आपको खुद से प्रेम करना है और अपने बारे में अच्छा महसूस करना है |  अगर इस समय आपके पास धन की कमी है  तो भी अपने आपको  समृद्धि में देखना है  |  अपने Bills  को देखकर कभी चिंता ना करें और यह सोचे कि आप उन्हें चुका सकते हैं |  आप हमेशा परिवार का पूरा खर्च उठा सकते हैं |  एक प्रचुरता से भरा जीवन जीने के लिए आपको जो भी चीजें चाहिए, आप वह सभी खरीद सकते हैं | जब आप  समृद्धि में विश्वास करेंगे  और अपने बारे में अच्छा महसूस करेंगे तो  समृद्धि अपने आप,  आपके जीवन में आ जाएगी |

Chapter 14 है The Body – आपका शरीर

दुनिया में हर कोई किसी न किसी बीमारी से पीड़ित हैं | जब आप डॉक्टर के पास जाते हैं तो वह आपको आपकी बीमारी का कारण आपका खान पान,  दूषित पानी और प्रदूषण के बारे में बताता है |  असल में हमारे खुद के बारे में ग़लत और negative विचारों से हमारे शरीर में तनाव पैदा होता है जिसके कारण बीमारियाँ उत्पन्न होती हैं |

बीमार लोग शीशे के सामने खड़े होकर खुद को देखते हैं और खुद  की आलोचना  करते हैं |  वह कहते हैं कि उनका चेहरा अच्छा नहीं है, वह सुंदर नहीं है  या उनका  भजन  ज्यादा है |  इस तरह वह अपने शरीर में कई तरह की कमियों को देखते हैं और खुद की आलोचना करते हैं |  हम जिस भी चीज की आलोचना करेंगे वह खराब हो जाएगी |  इसीलिए आप अपने शरीर में जिस अंग की आलोचना करते हैं वह और भी खराब हो जाता है |

इसलिए अगर आप अपने शरीर की किसी भी  समस्या को ठीक करना चाहते हैं तो आपको अपने शरीर से प्रेम करना होगा, जिस तरह  माता पिता एक छोटे बच्चे से करते हैं |  आपको अपने शरीर की एक छोटे बच्चे की तरह ही देखभाल करनी होगी | आपको शरीर की  समस्याओं  और  बीमारियों से ध्यान हटा कर  मानसिक तस्वीरों में अपने आपको पूरी तरह  स्वस्थ देखना होगा |  अपने शरीर और मन के अंदर आपको प्रेम और खुशी महसूस करनी होगी |  प्रेम और खुशी की भावनाओं से आप अपने शरीर की किसी भी  समस्या को ठीक कर सकते हैं |

बीमारियों को ठीक करने की प्रणाली हमारे शरीर में  स्वाभाविक रूप से  मौजूद है लेकिन वह तब तक काम नहीं करती जब तक शरीर में तनाव और negativity रहती है | शरीर को ठीक करने की प्रणाली को  सक्रिय करने के लिए आपको प्रेम और खुशी की भावनाएं महसूस करनी है | जब आप ऐसा करेंगे तो आपका शरीर जानता है कि अपने आप को  स्वाभाविक रूप से ठीक कैसे करना है |

तो दोस्तों यह इस video में बताया गया आखिरी chapter था और जैसा कि मैंने आपसे कहा था कि इस video के अंत में, मैं आपको बताए गए सारे chapters के  महत्वपूर्ण points को दोबारा दोहराऊँगा तो चलिए सारे   महत्वपूर्ण बातों पर एक बार फिर से नजर डाल लेते हैं –

  1. अगर आप अपने किसी बुरी आदत को छोड़ना चाहते हैं तो आपको उस आदत की जरूरत को छोड़ना होगा |
  2. आपके जीवन में कितनी भी बड़ी  समस्या क्यों ना हो आप उन सभी समस्याओं को प्रेम से  हल कर सकते हैं |
  3. अपने विचारों को बदलना ही दूसरे लोगों को बदलने का सबसे अच्छा तरीका है |
  4. किसी भी काम में सफल होने के लिए आपको  उसका अभ्यास करना पड़ता है |
  5. जब आप  समृद्धि में विश्वास करेंगे  और अपने बारे में अच्छा महसूस करेंगे तो  समृद्धि अपने आप,  आपके जीवन में आ जाएगी |
  6. हमारे खुद के बारे में ग़लत और negative विचारों से हमारे शरीर में तनाव पैदा होता है जिसके कारण सभी बीमारियाँ उत्पन्न होती हैं |

तो दोस्तों मुझे उम्मीद हैं कि  पहले part  की तरह ही आपको YOU CAN HEAL YOUR LIFE  किताब का दूसरा part भी बहुत पसंद आया होगा  | इस video को like और share करें  | और ऐसे ही book summaries और knowledge से भरे videos देखने के लिए हमारे चैनल Brain Book को subscribe करें | मैं जल्द ही आपके लिए एक नया Video लेकर आऊंगा | तो चलिए मिलते हैं अगली VIDEO  में | आपका समय शुभ हो |